Advertisement

ISHTA PRARTHANA | इष्ट-प्रार्थना

भावना दिन-रात मेरी, सब सुखी संसार हो |
सत्य-संयम-शील का, व्यवहार हर घर-बार हो ||
धर्म का परचार हो, अरु देश का उद्धार हो |
और ये उजड़ा हुआ, भारत चमन गुलजार हो ||१||

ज्ञान के अभ्यास से, जीवों का पूर्ण विकास हो |
धर्म के परचार से, हिंसा का जग से ह्रास हो ||२||

शांति अरु आनंद का, हर एक घर में वास हो |
वीर-वाणी पर सभी, संसार का विश्वास हो ||३||

रोग अरु भय-शोक होवें, दूर सब परमात्मा |
कर सके कल्याण-ज्योति, सब जगत् की आत्मा ||४||

Post a Comment

और नया पुराने

Advertisement

Advertisement