Advertisement

द्रव्य संग्रह | Dravya Sangrah


जीवमजीवं दव्वं, जिणवरवसहेण जेण णिद्दिं।
देविंदविंदवंदं, वंदे तं सव्वदा सिरसा॥ 1॥

जीवो उवओगमओ, अमुत्ति कत्ता सदेहपरिमाणो।
भोत्ता संसारत्थो, सिद्धो सो विस्ससोड्ढगई॥ 2॥

तिक्काले चदुपाणा इंदियबलमाउ आणपाणो य।
ववहारा सो जीवो णिच्छयणयदो दु चेदणा जस्स॥ 3॥

उवओगो दुवियप्पो दंसणणाणं च दंसणं चदुधा।
चक्खु अचक्खुओही दंसणमध केवलं णेयं॥4॥

णाणं अवियप्पं, मदिसुद ओही अणाणणाणाणि।
मणपज्जय केवलमवि, पच्चक्ख-परोक्ख-भेयं च॥5॥

अचदुणाण-दंसण-, सामण्णं जीवलक्खणं भणियं।
ववहारा सुद्धणया, सुद्धं पुण दंसणं णाणं॥6॥

वण्ण रस पंच गंधा, दो फासा अ णिच्छया जीवे।
णो संति अमुत्ति तदो, ववहारा मुत्ति बंधादो॥7॥

पुग्गलकम्मादीणं, कत्ता ववहारदो दु णिच्छयदो।
चेदणकम्माणादा, सुद्धणया सुद्धभावाणं॥8॥

ववहारा सुहदुक्खं पुग्गलकम्मप्फलं पभुंजेदि।
आदा णिच्छयणयदो चेदणभावं खु आदस्स॥9॥

अणुगुरुदेहपमाणो, उवसंहारप्पसप्पदो चेदा।
असमुहदो ववहारा णिच्छयणयदो असंखदेसो वा॥10॥

पुढविजलतेउवाऊ, वणप्फदी विविह-थावरेइंदी।
विगतिगचदुपंचक्खा, तसजीवा होंति संखादी॥11॥

समणा अमणा णेया पंचिंदिय-णिम्मणा परे सव्वे।
बादर सुहुमे - इंदिय सव्वे पज्जत्त इदरा य॥12॥

मग्गणगुणठाणेहि य चउदसहिं हवंति तह असुद्धणया।
विण्णेया संसारी, सव्वे सुद्धा हु सुद्धणया॥13॥

णिक्कम्मा अगुणा किंचूणा चरमदेहदो सिद्धा।
लोयग्गठिदा णिच्चा, उप्पादवएहिं संजुत्ता॥14॥

अज्जीवो पुण णेओ, पुग्गलधम्मो अधम्म आयासं।
कालो पुग्गलमुत्तो, रूवादिगुणो अमुत्तिसेसा दु॥ 15॥

सद्दो बंधो सुहुमो, थूलो संठाणभेदतमछाया।
उज्जोदादवसहिया, पुग्गलदव्वस्स पज्जाया॥ 16॥

गइ-परिणयाण धम्मो, पुग्गलजीवाण गमणसहयारी।
तोयं जह मच्छाणं, अच्छंता णेव सो णेई॥ 17॥

ठाणजुदाण अधम्मो पुग्गलजीवाण ठाण-सहयारी।
छाया जहपहियाणं गच्छंता णेव सो धरई॥ 18॥

अवगासदाणजोग्गं, जीवादीणं वियाण आयासं।
जेण्हं लोगागासं, अल्लोगागासमिदि दुविहं॥ 19॥

धम्माधम्मा कालो, पुग्गलजीवा य संति जावदिये।
आयासे सो लोगो, तत्तो परदो अलोगुत्तो॥ 20॥

दव्वपरिवट्टरूवो, जो सो कालो हवेइ ववहारो।
परिणामादीलक्खो, वट्टणलक्खो य परमो॥ 21॥

लोयायासपदेसे, इक्केक्के जे ठिया हु इक्केक्का।
रयणाणं रासीमिव, ते कालाणू असंखदव्वाणि॥ 22॥

एवं छब्भेयमिदं, जीवाजीवप्पभेददो दव्वं।
उत्तं कालविजुत्तं णायव्वा पंच अत्थिकाया दु॥ 23॥

संति जदो तेणेदे, अत्थित्ति भणंति जिणवरा जम्हा।
काया इव बहुदेसा, तम्हा काया य अत्थिकाया य॥ 24॥

होंति असंखा जीवे, धम्माधम्मे अणंत आयासे।
मुत्ते तिविह-पदेसा, कालस्सेगो ण तेण सो काओ॥ 25॥

एयपदेसो वि अणू, णाणाखंधप्पदेसदो होदि।
बहुदेसो उवयारा, तेण य काओ भणंति सव्वण्हु॥ 26॥

जावदियं आयासं, अविभागी पुग्गलाणुवद्धं।
तं खु पदेसं जाणे, सव्वाणुाणदाणरिहं॥ 27॥

आसव-बंधण-संवर -, णिज्जरमोक्खा सपुण्णपावा जे।
जीवाजीवविसेसा, ते वि समासेण पभणामो॥ 28॥

आसवदि जेण कम्मं, परिणामेणप्पणो स विण्णेओ।
भावासवो जिणुत्तो, कम्मासवणं परो होदि॥ 29॥

मिच्छत्ताविरदिपमादजोग-कोधादओऽथ विण्णेया।
पणपणपणदहतिय चदु, कमसो भेदा दु पुव्वस्स॥ 30॥

णाणावरणादीणं, जोग्गं जं पुग्गलं समासवदि।
दव्वासवो स णेओ, अणेयभेओ जिणक्खादो॥ 31॥

बज्झदि कम्मं जेण दु, चेदणभावेण भावबंधो सो।
कम्मादपदेसाणं, अण्णोण्णपवेसणं इदरो॥ 32॥

पयडििदिअणुभागप्पदेस-भेदा दु चदुविधो बंधो।
जोगा पयडिपदेसा, ठिदिअणुभागा कसायदो होंति॥ 33॥

चेदणपरिणामो, जो कम्मस्सासव णिरोहणे हेदु।
सो भावसंवरो खलु, दव्वासवरोहणे अण्णो॥ 34॥

वद-समिदीगुत्तीओ, धम्माणुपेहा परीसहजओ य।
चारित्तं बहुभेया णायव्वा भावसंवरविसेसा॥ 35॥

जहकालेण तवेण य, भुत्तरसं कम्मपुग्गलं जेण।
भावेण सडदि णेया, तस्सडणं चेदि णिज्जरा दुविहा॥ 36॥

सव्वस्स कम्मणो जो, खयहेदू अप्पणो हु परिणामो।
णेओ स भावमोक्खो, दव्वविमोक्खो य कम्मपुहभावो॥37॥

सुहअसुहभावजुत्ता, पुण्णं पावं हवंति खलु जीवा।
सादं सुहाउ णामं, गोदं पुण्णं पराणि पावं च॥ 38॥

सम्मद्दंसणणाणं, चरणं मोक्खस्स कारणं जाणे।
ववहारा णिच्छयदो, तत्तियमइओ णिओ अप्पा॥ 39॥

रयणत्तयं ण वट्टइ, अप्पाणं मुइत्तु अण्णदवियम्हि।
तम्हा तत्तिय मइओ, होदि हु मोक्खस्स कारणं आदा॥40॥

जीवादी-सद्दहणं, सम्मत्तं रूवमप्पणो तं तु।
दुरभिणिवेसविमुक्कं, णाणं सम्मं खु होदि सदि जम्हि॥41॥

संसय-विमोह-विब्भम-विवज्जियं अप्पपरसरूवस्स।
गहणं सम्मं णाणं, सायारमणेयभेयं च॥ 42॥

जं सामण्णं गहणं, भावाणं णेव कट्टुमायारं।
अविसेसिदूण अे दंसणमिदि भण्णए समए॥ 43॥

दंसणपुव्वं णाणं, छदुमत्थाणं ण दुण्णि उवओगा।
जुगवं जम्हा केवलिणाहे जुगवं तु ते दो वि॥ 44॥

असुहादो विणिवित्ती, सुहे पवित्ती य जाण चारित्तं।
वदसमिदिगुत्तिरूवं ववहारणया दु जिणभणियं॥ 45॥

बहिरब्भंतरकिरियारोहो, भवकारणप्पणासं।
णाणिस्स जं जिणुत्तं, तं परमं सम्मचारित्तं॥ 46॥

दुविहं पि मोक्खहेउं, झाणे पाउणदि जं मुणी णियमा।
तम्हा पयत्तचित्ता, जूयं झाणं समब्भसह॥ 47॥

मा मुज्झह मा रज्जह, मा दुस्सह इणिअत्थेसु।
थिरमिच्छह जइ चित्तं, विचित्त झाणप्पसिद्धीए॥ 48॥

पणतीस-सोल-छप्पण-, चदु-दुग-मेगं च जवह झाएह।
परमेिवाचयाणं, अण्णं च गुरूवएसेण॥ 49॥

ण-चदुघाइकम्मो, दंसण-सुह-णाण-वीरिय-मईओ।
सुहदेहत्थो अप्पा, सुद्धो अरिहो विचिंतिज्जो॥ 50॥

ण- कम्मदेहो, लोयालोयस्स जाणओ दा।
पुरिसायारो अप्पा, सिद्धो झाएह लोयसिहरत्थो॥ 51॥

दंसणणाणपहाणे, वीरिय-चारित्त-वर-तवायारे।
अप्पं परं च जुंजइ, सो आइरिओ मुणी झेओ॥ 52॥

जो रयणत्तयजुत्तो, णिच्चं धम्मोवएसणे णिरदो।
सो उवझाओ अप्पा, जदिवरवसहो णमो तस्स॥ 53॥

दंसणणाणसमग्गं, मग्गं मोक्खस्स जो हु चारित्तं।
साधयदि णिच्चसुद्धं, साहू सो मुणी णमो तस्स॥ 54॥

जं किंचिवि चिंतंतो, णिरीहवित्ती हवे जदा साहू।
लद्धूणय एयत्तं, तदा हु तं तस्स णिच्छयं झाणं॥ 55॥

मा चिह मा जंपह, मा चिंतह किंवि जेण होइ थिरो।
अप्पा अप्पम्मि रओ, इणमेव परं हवे झाणं॥ 56॥

तवसुदवदवं चेदा, झाण-रहधुरंधरो हवे जम्हा।
तम्हा तत्तियणिरदा, तल्लद्धीए सदा होइ॥ 57॥

दव्वसंगहमिणं मुणिणाहा, दोससंचयचुदा सुदपुण्णा।
सोधयंतु तणुसुत्तधरेण, णेमिचंद मुणिणा भणियं जं॥ 58॥

Post a Comment

और नया पुराने

Advertisement

Advertisement