मुनिसुव्रत जी की आरती | Shree Munisuvratji ki Aarti

ऊँ जय मुनिसुव्रतस्वामी, प्रभु जय मुनिसुव्रतस्वामी ।
भक्ति भाव से प्रणमूं, जय अंतरयामी ।। ऊँ जय ...

राजगृही में जन्म लिया प्रभु, आनन्द भयो भारी ।
सुर नर मुनि गुण गाएँ, आरती कर थारी ।। ऊँ जय ...

पिता तिहारे, सुमित्र राजा, शामा के जाया ।
श्यामवर्ण मूरत तेरी, पैठण में अतिशय दर्शाया ।।ऊँ जय ...

जो ध्यावे सुख पावे, सब संकट दूर करें ।
मन वांछित फल पावे, जो प्रभु चरण धरें ।। ऊँ जय ...

जन्म मरण, दुख हरो प्रभु, सब पाप मिटे मेरे ।
ऐसी कृपा करो प्रभु, हम दास रहें तेरे ।। ऊँ जय ...

निजगुण ज्ञान का, दीपक ले आरती करुं थारी ।
सम्यग्ज्ञान दो सबको, जय त्रिभुवन के स्वामी ।। ऊँ जय ...

Image Source:
'Munisuvrata Hasteda' by Vinitapramod, Image compressed, is licensed under CC BY-SA 4.0

Post a Comment

और नया पुराने

Advertisement

Domino's [CPS] IN