Advertisement

श्री सुमतिनाथ जी चालीसा | Shree Sumatinath ji Chalisa

श्री सुमति नाथ करुना निर्झर, भव्य जानो तक पहुचे झर झर ।
नयनो में प्रभु की छवि भर कर, नित चालीसा पढ़े सब घर घर ।।

जय श्री सुमति नाथ भगवान्, सबको दो सदबुद्धि दान ।
अयोध्या नगरी कल्याणी, मेघरथ राजा मंगला रानी ।।

दोनों के अति पुण्य प्रजारे, जो तीर्थंकर सूत अवतारे ।
शुक्ल चैत्र एकादशी आई, प्रभु जन्म की बेला आई ।।

तीनो लोको में आनंद छाया, नाराकियो ने दुःख भुलाया ।
मेरु पर प्रभु को ले जाकर, देव न्वहन करते हर्षाकर ।।

तप्त स्वर्ण सम सोहे प्रभु तन, प्रगटा अंग प्रत्यंग में यौवन ।
ब्याही सुन्दर वधुएँ योग, नाना सुखो का करते भोग ।।

राज्य किया प्रभु ने सुव्यवस्थित, नहीं रहा कोई शत्रु उपस्थित ।
हुआ एकदिन वैराग्य सब, नीरस लगाने लगे भोग सब ।।

जिनवर करते आत्म चिंतन, लौकंतिक करते अनुमोदन ।
गए सहेतुक नामक वन में, दीक्षा ली मध्याह्न समय में ।।

बैसाख शुक्ल नवमी का शुभ दिन, प्रभु ने किया उपवास तीन दिन ।
हुआ सौमनस नगर विहार, ध्युमनध्युती ने दिया आहार ।।

बीस वर्ष तक किया तब घोर, आलोकित हुए लोकालोक ।
एकादशी चैत्र की शुक्ल, धन्य हुई केवल रवि निकला ।।

समोशरण में प्रभु विराजे, द्वादश कोठे सुन्दर साझे ।
दिव्या ध्वनि खीरी धरा पर, अनहद नाद हुआ नभ ऊपर ।।

किया व्याख्यान सप्त तत्वों का, दिया द्रष्टान्त देह नौका का ।
जीव अजीव आश्रव बांध, संवर से निर्झरा निर्बन्ध ।।

बंध रहीत होते हैं सिद्ध, हैं यह बात जगत प्रसिद्ध ।
नौका सम जानो निज देह, नाविक जिसमे आत्म विदेह ।।

नौका तिरती ज्यो उदधि में, चेतन फिरता भावोदधि में।
हो जाता यदि छिद्र नाव में, पानी आ जाता प्रवाह में ।।

ऐसे ही आश्रव पुद्गल में, तीन योग से हो प्रतिपल में ।
भरती है नौका ज्यों जल से, बंधती आत्मा पुण्य पाप से ।।

छिद्र बंद करना है संवर, छोड़ शुभा शुभ शुद्धभाव भर ।
जैसे जल को बाहर निकाले, संयम से निर्जरा को पालें ।।

नौका सूखे ज्यो गर्मी से, जीव मुक्त हो ध्यानाग्नि से ।
ऐसा जानकर करो प्रयास, शाश्वत शुख पाओ सायास ।।

जहाँ जीवों का पुण्य प्रबल था, होता वही विहार स्वयं था ।
उम्र रही जब एक ही मास, गिरी सम्मेद पर किया निवास ।।

शुक्ल ध्यान से किया कर्मक्षय, संध्या समय पाया पद अक्षय ।
चैत्र सुदी एकादशी सुन्दर, पहुँच गए प्रभु मुक्ति मंदिर ।।

चिन्ह प्रभु का चकवा जान, अविचल कूट पूजे शुभथान ।।

इस असार संसार में, सार नहीं हैं शेष ।
अरुणा चालीसा पढो, रहे विषाद न लेश ।।

Image source:
'Jain statues in Anwa, Rajasthan 19' by Capankajsmilyo, Image compressed, is licensed under CC BY-SA 4.0

Post a Comment

और नया पुराने

Advertisement

Advertisement