Advertisement

श्री विश्वकर्मा चालीसा | Shree Vishwakarma Chalisa

॥ दोहा ॥

श्री विश्वकर्म प्रभु वन्दऊं,

चरणकमल धरिध्यान ।

श्री, शुभ, बल अरु शिल्पगुण,

दीजै दया निधान ॥


॥ चौपाई ॥

जय श्री विश्वकर्म भगवाना ।

जय विश्वेश्वर कृपा निधाना ॥


शिल्पाचार्य परम उपकारी ।

भुवना-पुत्र नाम छविकारी ॥


अष्टमबसु प्रभास-सुत नागर ।

शिल्पज्ञान जग कियउ उजागर ॥


अद्‍भुत सकल सृष्टि के कर्ता ।

सत्य ज्ञान श्रुति जग हित धर्ता ॥ ४ ॥


अतुल तेज तुम्हतो जग माहीं ।

कोई विश्व मंह जानत नाही ॥


विश्व सृष्टि-कर्ता विश्वेशा ।

अद्‍भुत वरण विराज सुवेशा ॥


एकानन पंचानन राजे ।

द्विभुज चतुर्भुज दशभुज साजे ॥


चक्र सुदर्शन धारण कीन्हे ।

वारि कमण्डल वर कर लीन्हे ॥ ८ ॥


शिल्पशास्त्र अरु शंख अनूपा ।

सोहत सूत्र माप अनुरूपा ॥


धनुष बाण अरु त्रिशूल सोहे ।

नौवें हाथ कमल मन मोहे ॥


दसवां हस्त बरद जग हेतु ।

अति भव सिंधु मांहि वर सेतु ॥


सूरज तेज हरण तुम कियऊ ।

अस्त्र शस्त्र जिससे निरमयऊ ॥ १२ ॥


चक्र शक्ति अरू त्रिशूल एका ।

दण्ड पालकी शस्त्र अनेका ॥


विष्णुहिं चक्र शूल शंकरहीं ।

अजहिं शक्ति दण्ड यमराजहीं ॥


इंद्रहिं वज्र व वरूणहिं पाशा ।

तुम सबकी पूरण की आशा ॥


भांति-भांति के अस्त्र रचाए ।

सतपथ को प्रभु सदा बचाए ॥ १६ ॥


अमृत घट के तुम निर्माता ।

साधु संत भक्तन सुर त्राता ॥


लौह काष्ट ताम्र पाषाणा ।

स्वर्ण शिल्प के परम सजाना ॥


विद्युत अग्नि पवन भू वारी ।

इनसे अद्भुत काज सवारी ॥


खान-पान हित भाजन नाना ।

भवन विभिषत विविध विधाना ॥ २० ॥


विविध व्सत हित यत्रं अपारा ।

विरचेहु तुम समस्त संसारा ॥


द्रव्य सुगंधित सुमन अनेका ।

विविध महा औषधि सविवेका ॥


शंभु विरंचि विष्णु सुरपाला ।

वरुण कुबेर अग्नि यमकाला ॥


तुम्हरे ढिग सब मिलकर गयऊ ।

करि प्रमाण पुनि अस्तुति ठयऊ ॥ २४ ॥


भे आतुर प्रभु लखि सुर-शोका ।

कियउ काज सब भये अशोका ॥


अद्भुत रचे यान मनहारी ।

जल-थल-गगन मांहि-समचारी ॥


शिव अरु विश्वकर्म प्रभु मांही ।

विज्ञान कह अंतर नाही ॥


बरनै कौन स्वरूप तुम्हारा ।

सकल सृष्टि है तव विस्तारा ॥ २८ ॥


रचेत विश्व हित त्रिविध शरीरा ।

तुम बिन हरै कौन भव हारी ॥


मंगल-मूल भगत भय हारी ।

शोक रहित त्रैलोक विहारी ॥


चारो युग परताप तुम्हारा ।

अहै प्रसिद्ध विश्व उजियारा ॥


ऋद्धि सिद्धि के तुम वर दाता ।

वर विज्ञान वेद के ज्ञाता ॥ ३२ ॥


मनु मय त्वष्टा शिल्पी तक्षा ।

सबकी नित करतें हैं रक्षा ॥


पंच पुत्र नित जग हित धर्मा ।

हवै निष्काम करै निज कर्मा ॥


प्रभु तुम सम कृपाल नहिं कोई ।

विपदा हरै जगत मंह जोई ॥


जै जै जै भौवन विश्वकर्मा ।

करहु कृपा गुरुदेव सुधर्मा ॥ ३६ ॥


इक सौ आठ जाप कर जोई ।

छीजै विपत्ति महासुख होई ॥


पढाहि जो विश्वकर्म-चालीसा ।

होय सिद्ध साक्षी गौरीशा ॥


विश्व विश्वकर्मा प्रभु मेरे ।

हो प्रसन्न हम बालक तेरे ॥


मैं हूं सदा उमापति चेरा ।

सदा करो प्रभु मन मंह डेरा ॥ ४० ॥


॥ दोहा ॥

करहु कृपा शंकर सरिस,

विश्वकर्मा शिवरूप ।

श्री शुभदा रचना सहित,

ह्रदय बसहु सूर भूप ॥

Post a Comment

और नया पुराने

Advertisement

Advertisement